देखी है दरार आज मैंने आईने में,
पत्ता नहीं शीशा टुटा हुआ था या फिर मैं

Create a poster for this message
Visits: 97
Download Our Android App