अभी जिन्दगी का रुख बहुत खिलाफ है मेरे,
दिया जिधर भी जलाऊं हवा उधर से चलने लगती है

Create a poster for this message
Visits: 89
Download Our Android App