खुद के रोने की सिसकियाँ अब सुनाई नहीं देती,हमनें आँसुओं को भी डांट कर समझा रखा है

Create a poster for this message
Visits: 76
Download Our Android App