ना लफ़्ज़ों का लहू निकलता है ना किताबें बोल पाती है,मेरे दर्द के दो ही गवाह थे और दोनों ही बेजुबां निकले

Create a poster for this message
Visits: 67
Download Our Android App