हम तो नरम पत्तो की शाख हुआ करते थे, छिले इतने गए की खंजर हो गए

Create a poster for this message
Visits: 88
Download Our Android App