है दफ़न मुझमे मेरी कितनी रौनके मत पूछ,उजड़ उजड़ कर जो बसती रही वो बस्ती हु मैं !!

Create a poster for this message
Visits: 182
Download Our Android App