नीलाम कुछ इस कदर हुए, बाज़ार-ए-वफ़ा में हम, आज बोली लगाने वाले भी वो ही थे जो कभी झोली फैला कर माँगा करते थे !!

Create a poster for this message
Visits: 177
Download Our Android App