आपकी दोस्ती हमें इस क़दर प्यारी है,जिस तरह बिन पानी के मछली बेचारी है।अब न और कुछ ख़्वाहिश है,बस आप हर साल हमसे जुड़े रहे, यही आपसे गुज़ारिश है।

Create a poster for this message
Visits: 208
Download Our Android App