तेरी मोहब्बत की तलब थी इस लिए हाथ फैला दिए,वरना हमने तो कभी अपनी ज़िंदगी की दुआ भी नही माँगी.....!!!

Create a poster for this message
Visits: 116
Download Our Android App