क्यूँ फीकी पड़ गई है रातों की रौशनी।..
ऐ मेरे चाँद तू मुझसे कहीं ख़फा तो नहीं आजकल.

Description:hindi shayari on quotes