मेरी मोहब्बत बेजुबां होती रही दिल की धरकने अपना वजूद खोती रही,
कोई नहीं आया मेरे दुख में करीब इक बारिश थी जो मेरे साथ रोती रही !

Create a poster for this message
Visits: 446
Download Our Android App