Quickly search here what you are looking for


तेरे बिना कैसे गुज़रेंगी ये रातें,
तन्हाई का गम कैसे सहेंगी ये रातें,
बहुत लम्बी हैं घड़ियाँ इंतज़ार की,
करवट बदल-बदल कर कटेंगी ये रातें.
शुभरात्रि

Create a poster for this message
Visits: 91