*आंखे जो पढ़ ले, उसी को दोस्त मानना साहिब.....*
*वरना....चेहरा तो रोज दुशमन भी देखते हैं....!!!!* "..*

Create a poster for this message
Visits: 569
Download Our Android App