जिसकी चोट पर हमने सदा मरहम लगाए,हमारे वास्ते फिर उसने नए खंज़र मंगाए

Create a poster for this message
Visits: 170
Download Our Android App