उठाना ‎खुद‬ ही ‪पड़ता‬ है थका ‎टूटा‬ बदन ‎अपना‬,जब‬ तक ‎साँसें‬ चलती है कंधा‬ कोई नहीं देता

Create a poster for this message
Visits: 173
Download Our Android App