किसकी पनाह में तुझको गुज़ारे ऐ जिंदगी,अब तो रास्तों ने भी कह दिया है की घर क्यों नहीं जाते

Create a poster for this message
Visits: 163
Download Our Android App