चंद खुशियाँ ही बची थी मेरे हाथो की लकीरो में,वो भी तेरे आंसु पोछते हुए मिट गई !

Create a poster for this message
Visits: 156
Download Our Android App