बीती बातें फिर दोहराने बैठ गए,
क्यों ख़ुद को ही ज़ख़्म लगाने बैठ गए

Create a poster for this message
Visits: 173
Download Our Android App