ना जाने कैसी नज़र लगी है ज़माने की,
बजह ही नहीं मिल रही है मुस्कुराने की

Create a poster for this message
Visits: 279
Download Our Android App