अब तो सजाएं बन चुकी है गुजरे हुए वक्त की यादें,
ना जानें क्यों मतलब के लिए मेहरबान होते है लोग

Create a poster for this message
Visits: 166
Download Our Android App