लौट आती है हर दफा इबादत मेरी खाली,
ना जाने किस मंजिल पर खुदा रहता है

Create a poster for this message
Visits: 120
Download Our Android App