ये राते भी पूछती है अक्सर मुझसे,
की कब तक गुजारोगे ज़िन्दगी यूँ अंधेरो के सहारे

Create a poster for this message
Visits: 125
Download Our Android App