भिगी है मेरी उंगलिया मेरे अश्को में,
अब चमकते हूए चहरो पर भरोसा नहीं होता

Create a poster for this message
Visits: 127
Download Our Android App