मुस्कुराने की आदत भी कितनी महेंगी पड़ी हमको,
भुला दिया सबने ये कहकर की तुम तो अकेले भी खुश रह लेते हो

Create a poster for this message
Visits: 134
Download Our Android App