जो जले‬ थे हमारे‬ लिऐ बुझ‬ रहे है वो सारे‬ दिये,
कुछ अंधेरों‬ की थी साजिशें‬ कुछ उजालों‬ ने धोखे‬ दिये

Create a poster for this message
Visits: 127
Download Our Android App