मेरे नसीब की बारिश कुछ इस तरह से होती रही मुझपे,
की ख्वाहिशे सुखती रही और मेरी पलके भीगती रही

Create a poster for this message
Visits: 129
Download Our Android App