तू मुझसे मेरे गुनाहों का हिसाब ना मांग मेरे खुदा,मेरी तक़दीर लिखने में कलम तेरी ही चली है

Create a poster for this message
Visits: 112
Download Our Android App