न रुकी वक्त की गर्दिश और न जमाना बदला,पेड़ सुखा तो परिंदों ने ठिकाना बदला

Create a poster for this message
Visits: 104
Download Our Android App