डूबकर सूरज ने मुझे और भी तनहा कर दिया,मेरा छाया भी छुप गया मेरे अपनों की तरह

Create a poster for this message
Visits: 106
Download Our Android App