कौन समझ पाया है आज तक हमें,
हम अपने हादसों के इकलौते गवाह है

Create a poster for this message
Visits: 82
Download Our Android App