क्यूँ रे मुक़द्दर क्यूँ दर्द पे दर्द दिए जा रहा है, अब नहीं सहा जाता, हो सके तो मौत ही दे दे

Create a poster for this message
Visits: 95
Download Our Android App