कड़ी धूप में चलता हूं इस यकीं से साहब, मैं जलूंगा तो मेरे घर में उजाले होंगे

Create a poster for this message
Visits: 87
Download Our Android App