दिल तू भी तो एक मजदूर ही है,
जो यादों की गुलामी से कभी आजाद न हो पाया !!

Create a poster for this message
Visits: 483
Download Our Android App