मतलबी दुनिया के लोग खड़े है हाथों में पत्थर लेकर, मैं कहाँ तक भागूं शीशे का मुक़द्दर लेकर

Create a poster for this message
Visits: 109
Download Our Android App