एक ज़ख्मी परिंदे की तरह जाल में है हम,ऐ इश्क अभी तक तेरे जंजाल में है हम

Create a poster for this message
Visits: 119
Download Our Android App