रोज़ पिलाता हूँ एक ज़हर का प्याला उसे,एक दर्द जो दिल में है मरता ही नहीं है

Create a poster for this message
Visits: 87
Download Our Android App