एक ‪ज़ख्म‬ नहीं यहाँ‬ तो सारा ‪वजूद‬ ही ज़ख्मी‬ है,दर्द‬ भी ‪हैरान‬ है की उठूँ‬ तो कहाँ से उठूँ

Create a poster for this message
Visits: 85
Download Our Android App