मैं परेशांन हूँ ज़िंदगी और मौत से,कल ज़िंदगी को मनाया तो आज मौत रूठ बेठी है

Create a poster for this message
Visits: 87
Download Our Android App