हालात ने कुछ यूँ घूर के देखा,की हसरतों की तितली बेचारी डर के उड़ गयी

Create a poster for this message
Visits: 85
Download Our Android App