ना जाने किस मिट्टी को मेरे वजूद की ख्वाहिश थी,मैं इतना तो बना भी न था जितना मिटा दिया गया हूँ

Create a poster for this message
Visits: 100
Download Our Android App