बहुत अन्दर तक तबाही मचाते है वो आंसू ,जो आँखों से बह नहीं पाते

Create a poster for this message
Visits: 91
Download Our Android App