तमाम नींदें गिरवी हैं हमारी उसके पास; जिससे ज़रा सी मुहब्बत की थी हमनें! 

Create a poster for this message
Visits: 125
Download Our Android App