हम रूठे तो किसके भरोसे, कौन आएगा हमें मनाने के लिए; हो सकता है, तरस आ भी जाए आपको; पर दिल कहाँ से लाये, आप से रूठ जाने के लिए! 

Create a poster for this message
Visits: 124
Download Our Android App