है अजीब शहर की ज़िन्दगी न सफ़र रहा न कयाम है, कहीं कारोबार सी दोपहर कहीं बाद मिजाज सी शाम है।

Create a poster for this message
Visits: 144
Download Our Android App