लोग जलते रहे मेरी मुस्कान पर, मैंने दर्द की अपने नुमाइश न की, जब जहाँ जो मिला अपना लिया, जो न मिला उसकी ख्वाइश न की।

Create a poster for this message
Visits: 148
Download Our Android App