क्यों हिज्र के शिकवे करता हों क्यों दर्द के रोने रूता हों , अब इश्क़ किया तो सब्र भी कर इसमे तो यही कुछ होता है |

Create a poster for this message
Visits: 182
Download Our Android App