भूलकर हमें अगर तुम रहते हो सलामत, तो भूलके तुमको संभलना हमें भी आता है मेरी फ़ितरत में ये आदत नहीं है वरना, तेरी तरह बदल जाना हमें भी आता है..।।

Create a poster for this message
Visits: 112
Download Our Android App