याद होकर भी हम, ना याद हो गये, दौर बरबादियों के यूं ही गुज़र गये || चमकी थी फल्क में, मै बिजली की तरह, घटाये बरसी और मै यू ही बिखर गयी ||

Create a poster for this message
Visits: 110
Download Our Android App