खड़ी होकर छत पर वो, नजरो से तीर चलाते रहे || जितना में उससे दूर हुआ, वो उतना ही पास आती रही ||

Create a poster for this message
Visits: 117
Download Our Android App