राहों का ख़्याल है मुझे, मंज़िल का हिसाब नहीं रखता..!!
अल्फ़ाज़ दिल से निकलते है,मैं कोई किताब नहीं रखता..!!

Create a poster for this message
Visits: 181
Download Our Android App